Breaking News :

बच्ची को गोबर के ढेर में फेंकने वाले मामले में नवजात शिशु को जन्म देने वाली नाबालिग जमा दो कक्षा की छात्रा

सीएम ने मांगी तीन दिनों के भीतर मामले की रिपोर्ट, जो भी दोषी होगा उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी

कोरोना काल मे स्वास्थ्य खंड संगड़ाह में फार्मासिस्ट व डॉक्टर के भी आधे पद खाली

सिरमौर में आज 18 से 44 आयु वर्ग के 9296 लोगों को लगी वैक्सीन

डॉ परुथी के कार्यकाल के दौरान बनाई गई 25000 पालीब्रिक्स

सिरमौर के किसान 15 जुलाई तक मक्की व धान की फसलों का करवा सकेंगे बीमा

ब्रेकिंग : एयरपोर्ट के बाहर एसपी कुल्लू ने सीएम सिक्योरिटी के एएसपी रैंक के अधिकारी को जड़ तमाचा

पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के जन्मदिन पर ब्लॉक कांग्रेस कमेटी पांवटा ने किया हवन यज्ञ

गिरिखण्ड पत्रकार परिषद सदस्यों ने जनसम्पर्क विभाग के संपादक रणजीत सिंह राणा के देहांत पर शोक व्यक्त किया

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने किए 64 करोड़ रुपए के उद्घाटन व शिलान्यास

June 24, 2021

कोविड वार्ड में मरीजों की देखभाल के दौरान कोताही बरती तो अस्पतालों के मुखियाओं पर होगी कार्रवाई

News portals -सबकी  खबर (शिमला )

हिमाचाल प्रदेश में कोविड वार्ड में मरीजों की देखभाल के दौरान कोताही बरतने वाले स्टाफ पर नजर रखी जाएगी। स्वास्थ्य विभाग ने प्रिंसीपल, एमएस, सीएमओ को निर्देश दिए हैं कि वे कोविड वार्ड में ड्यूटी देने वाले स्टाफ पर नजर रखे। अगर मरीजों के उपचार में किसी तरह की कोताही बरती जाती है तो अस्पतालों के मुखियाओं पर कार्रवाई होगी। कोविड वार्ड में जाने से पहले सभी स्टाफ के साथ एचओडी की बैठक भी होगी, ताकि इन्हें काम को लेकर बताया जा सके।

कोविड वार्ड में ड्यूटी दे रहे स्टाफ के कार्यों पर नजर रखने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने डाक्टरों के एचओडी को सख्त आदेश दिए हैं। वार्ड में आक्सीजन, इंजेक्शन अन्य कोविड मरीजों के लिए इस्तेमाल होने वाली सामग्री की भी जांच होगी। अगर स्वास्थ्य सामग्री की कमी है तो उसे उपलब्ध करवाना इन अधिकारियों का काम होगा।

वार्ड इंचार्ज लिस्ट तैयार करेंगे। इसके अलावा सरकार ने घरों में आइसोलेट कोरोना मरीजों के साथ डॉक्टरों को बात करने को कहा है। मरीजों को क्या-क्या जरूरत है। इसके लिए आशा वर्कर आइसोलेट मरीजों के घर जाएगी। आक्सीजन लेबल, बुखार की रिपोर्ट सबंधित क्षेत्र के ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर को देगी।

ऐसे में अगर बीएमओ को लगता है कि मरीज की तबीयत ठीक नहीं है तो वह एंबुलेंस भेजकर मरीज को अस्पताल लाएंगे। स्वास्थ्य सचिव अमिताभ अवस्थी ने बताया कि कोरोना मरीजों के उपचार में कोताही नहीं बरती जानी चाहिए। शिकायत आने पर मेडिकल कालेज के प्रिंसीपल, वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक और मुख्य चिकित्सा अधिकारी पर कार्रवाई होगी। बाकायदा इसके आदेश जारी किए गए है।

Read Previous

भंगानी में अवैध शराब के साथ एक व्यक्ति गिरफ्तार

Read Next

लोग भीड़ जुटाकर खुद ही बुला रहे बीमारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *