Breaking News :

बच्ची को गोबर के ढेर में फेंकने वाले मामले में नवजात शिशु को जन्म देने वाली नाबालिग जमा दो कक्षा की छात्रा

सीएम ने मांगी तीन दिनों के भीतर मामले की रिपोर्ट, जो भी दोषी होगा उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी

कोरोना काल मे स्वास्थ्य खंड संगड़ाह में फार्मासिस्ट व डॉक्टर के भी आधे पद खाली

सिरमौर में आज 18 से 44 आयु वर्ग के 9296 लोगों को लगी वैक्सीन

डॉ परुथी के कार्यकाल के दौरान बनाई गई 25000 पालीब्रिक्स

सिरमौर के किसान 15 जुलाई तक मक्की व धान की फसलों का करवा सकेंगे बीमा

ब्रेकिंग : एयरपोर्ट के बाहर एसपी कुल्लू ने सीएम सिक्योरिटी के एएसपी रैंक के अधिकारी को जड़ तमाचा

पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के जन्मदिन पर ब्लॉक कांग्रेस कमेटी पांवटा ने किया हवन यज्ञ

गिरिखण्ड पत्रकार परिषद सदस्यों ने जनसम्पर्क विभाग के संपादक रणजीत सिंह राणा के देहांत पर शोक व्यक्त किया

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने किए 64 करोड़ रुपए के उद्घाटन व शिलान्यास

June 24, 2021

कोविड काल में एक्शन मोड में सीएम, महामारी से निपटने के हर प्रयास की खुद ले रहे फीडबैक

News portals-सबकी खबर (शिमला )

प्रदेश में कोरोना को लेकर स्थिति अति गंभीर बनी हुई है। मौजूदा समय में प्रदेश भर में 39000 से अधिक कोरोना के एक्टिव केस हैं, तो उसके साथ ही हर दिन होने वाली मौतें भी प्रदेश को डरा रही हैं। इसी बीच प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने हर मोर्चे पर खुद जिम्मा संभालते हुए कोरोना से निपटने की हर तैयारी की खुद समीक्षा कर रहे हैं। बेड कैपेसिटी बढ़ाने के साथ ऑक्सीजन की व्यवस्था हर कोविड-19 मरीज के लिए आईसीयू वेंटिलेटर और दवाइयों का भी पुख्ता बंदोबस्त करने के लिए खुद मैदान में डटे हुए हैं। इस गंभीर स्थिति में भी वह हर स्वास्थ्य संस्थान में खुद पहुंच रहे हैं।

जयराम सरकार ने ऑक्सीजन के ज्यादा उत्पादन और अस्पतालों में कोविड बेड क्षमता बढ़ाने के लिए प्लान तैयार किया है। पिछले एक महीने में ही प्रदेश के विभिन्न सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में कोविड रोगियों के लिए 3700 बेड की क्षमता बढ़ाई गई है। इसमें 2505 बेड ऑक्सीजन के साथ उपलब्ध हैं। यही नहीं परौर, मंडी बद्दी में कोविड मेकशिफ्ट अस्पताल तत्परता के साथ निर्मित करने की पहल भी की गई है और इन मेकशिफ्ट अस्पतालों में 1100 के करीब बेड क्षमता के साथ रोगियों का उपचार किया जाएगा।

इसके साथ ही हिमाचल एकमात्र ऐसा राज्य है, जो अपने संसाधनों के साथ ही प्रदेश में प्रतिदिन 75 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उत्पादन कर रहा है, जबकि खपत 27 मीट्रिक टन है। कोविड के संक्रमण के खतरे को बढ़ता देख जयराम सरकार ने जोनल अस्पताल धर्मशाला, डीडीयू शिमला, मेडिकल कालेज चंबा, शिमला टांडा नेरचौक, हमीरपुर, एमएमयू कुमारहट्टी में ऑक्सीजन प्लांट भी स्थापित किए हैं, वहीं डीआरडीओ के माध्यम से जल्दी ही सिविल अस्पताल पालमपुर, जोनल अस्पताल मंडी, सिविल अस्पताल खनेरी, रोहडू क्षेत्रीय अस्पताल सोलन, मेडिकल कालेज नाहन में ऑक्सीजन प्लांट स्थापित होंगे। इसके साथ ही 13 पीएसए ऑक्सीजन प्लांट पालमपुर, मंडी, घुमारवीं, हमीरपुर, रिकांगपिओ, रत्ती रामपुर, सराहन, कुल्लू, डीडीयू शिमला, आईजीएमसी शिमला, धर्मशाला तथा नेरचौक के लिए स्वीकृत किए गए हैं।

आयुष्मान-हिमकेयर कार्ड पर होगा इलाज

कोविड-19 को लेकर सरकार ने आयुष्मान तथा हिमकेयर कार्ड धारक परिवारों को कोविड का उपचार करवाने के लिए निजी अस्पतालों में निशुल्क उपचार की सुविधा देने का ऐतिहासिक निर्णय लिया है। अब सरकार ने बस चालकों, परिचालकों, पेट्रोल पंप ऑपरेटर्स, डिपो होल्डर, केमिस्ट, लोकमित्र केंद्र के संचालक तथा शिक्षकों को भी प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण अभियान में शामिल किया जाएगा।

Read Previous

प्रदेश सरकार ने हिमकेयर और आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थी कोविड-19 रोगियों को निःशुल्क उपचार का निर्णय सराहनीय – बलदेव तोमर

Read Next

प्रदेश की 3615 पंचायतों को पंचायतों को सैनिटाइज करने के लिए मिलेंगे 25-25 हजार रुपये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *